सही इन्वर्टर का चुनाव कैसे करे ?

blog-1.jpg

गर्मियों के आने के बाद अगर सबसे पेहला ख़्याल किसी का आता है तो वो है आपके भरोसेमंद साथी जो गर्मी को आपसे दूर और सुकून को आपके पास रखते है, आपके कूलर , ऐ.सी  और पंखे। परन्तु बिजली की खपत बढ़ने की वजह काफ़ी जगहों पर उसकी कटौती की जा  रही है और इस वज़ह आज इन्वर्टर एक आम जरुरत बन गयी है हालांकि ऐसी काफी सारी बातें है जिसका ध्यान रखना काफी जरुरी है इन्वर्टर या बैटरी खरीदने से पेहले।

कुछ प्रमुख बातें इस प्रकार है :-

1)  पॉवर कंसम्पशन

कोई भी इन्वर्टर खरीदने से पेहले प्रमुखतः आपको अपने घर या ऑफिस के पॉवर कंसम्पशन का ज्ञान होना चाहिए। आप सर्वप्रथम उन सारे एप्लायंस के सूची बना ले जिनका चलना अनिवार्य है और उसके उपरांत अपनी जरुरत के अनुसार वाली वी.ऐ रेटिंग वाला इन्वर्टर खरीदे क्यूंकि रिक्वायर्ड वी ए से काम रेटिंग का इन्वर्टर सारे उपकरणों का बोझ वहन नहीं कर पाएगा और आपको मनचाही सुविधा की प्राप्ति भी नहीं होगी।

2 ) यु.पी.एस  और इन्वर्टर के बीच अंतर

ऐसे आम तौर पे  यु.पी.एस और इन्वर्टर के बीच कोई ख़ास अंतर नहीं होता क्यूंकि दोनों ही पॉवर बैकअप के रूप में इस्तेमाल होते है परन्तु एक महत्वपूर्ण बिंदु जो दोनों उपकरणों को एक दूसरे से अलग करता है वो है इनकी समय सीमा।  उदहारण के तौर पार पावर जाने के तुरंत बाद यु.पी.एस अपना बैकअप प्रदान करता है बिना कोई समय लगाए वही इन्वर्टर के सन्दर्भ में पॉवर जाने के सम्पूर्ण रूप से ब्लैकआउट हो जाता है और उसके बाद इन्वर्टर अपनी सेवा देती है। इसीलिए कंप्यूटर इत्यादि इन्वर्टर की जगह यु.पी.एस से कनेक्टेड होते है।

3 ) उसकी  उपयोगिता

इन्वर्टर खरीदने से पहले इस बात का जरूर ज्ञान होना चाहिए की वो कौन कौन से उपकरणों को सपोर्ट करेगा। मसलन इस बात की जानकारी अवश्य ले  इन्वर्टर फ्रिज और ऐ.सी को सपोर्ट करेगा या नहीं।  इन सारी बातों को मद्देनजर रखते हुए एक हाई वी .ऐ रेटिंग वाला इन्वर्टर ले।

4) जानिये अपने इन्वर्टर की वी .ऐ रेटिंग

अक्सर लोग वी .ऐ रेटिंग और वॉट रेटिंग के बीच के अंतर को समझ नहीं पाते।  दोनों अलग अलग चीज़े है, आम उपकरण जैसे बल्ब, पंखे द्वारा यूज किये गए पॉवर की रेटिंग को वॉट रेटिंग कहते है जबकि इन्वर्टर और जनरेटर द्वारा दिए जा रहे बैकअप रेटिंग को वी .ऐ रेटिंग कहते है। आदर्श तौर पर दोनों रेटिंग एक ही होनी चाहिए पर ऐसा संभव नहीं है इसलिए ऐसा झूठे दावे करने वाले विक्रेताओं से बचे।

5 ) वारंटी अवधि

किसी भी उपकरण को खरीदने से पहले उसकी वारंटी अवधि के बारे में जरूर जान ले क्यूंकि आप हर वर्ष तो नया इन्वर्टर लेंगे नहीं , इसीलिए वही इन्वर्टर चुने जिसकी लम्बी वारंटी अवधि हो।

उपरोक्त लिखे हुए सारे मुद्दों पर विचार विमर्श करके ही इन्वर्टर चुने जिस से आपको भविष्य में किसी भी परेशानी का सामना ना करना पड़े।