सोलर पैनल से पैसे कैसे बचाएं? जानने के लिए पढ़ें 

-पैनल-1.jpg

भारत देश में तकनीक और अर्थव्यवस्था तेज़ी से उभर रही हैं जहाँ 100 करोड़ से भी ज़्यादा लोग शामिल हैं और आज हर घर को ऊर्जा की आवश्यकता है| ऊर्जा की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार ने आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है| बिजली के उत्पादन और खपत में भारत देश पांचवें स्थान पर आता है| ऊर्जा उत्पादन के लिए उपलब्ध संसाधनों में से कोयला सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है लेकिन मानव जाति की बढ़ती ज़रूरतों और आधुनिकीकरण के कारण कोयला हमारी ज़रूरतों के मुताबिक ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए पर्याप्त नहीं है| सीमित संसाधन होने के कारण कोयले पर आश्रित रहना समझदारी नहीं होगी| इन सब बातों को ध्यान में रखकर ही भारत सरकार ने भारत के लोगों के लिए ऊर्जा उत्पन्न करने के आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल शुरू किया है| यह तकनीक हैं: सोलर, विंड, जिओथर्मल, हाइड्रोपावर और बायोमास आदि| गत वर्षों में भारत ने सौर ऊर्जा को अपनाना शुरू किया है और सोलर ऊर्जा अनेक परिवारों में रौशनी पहुँचाने का महत्त्वपूर्ण ज़रिया बन चुका है| सोलर ऊर्जा के अनेक फ़ायदों में से सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे आपके बिजली के बिल में भारी कटौती होती है और हर महीने आपके पैसे भी बच जाते हैं| सोलर पैनल से उत्पन्न होने वाली बिजली कुछ महत्त्वपूर्ण कारकों पर निर्भर करती है जैसे कि क्षेत्र का तापमान, उत्पाद कि दक्षता, पावर रेटिंग आदि| सोलर ऊर्जा स्वच्छ, रिन्यूएबल, और पर्यावरण के अनुकूल है जिसमें निवेश करना अब पहले से भी सस्ता हो गया है और बिजली का बिल कम करने में भी मदद मिलती है

जीनस कई सालों से भारत के घरों में बिजली पहुँचा रहा है और जीनस के पास सोलर ऊर्जा पर चलने वाले उपकरण के विकल्प भी हैं| आइये जानते हैं कि आप सोलर ऊर्जा से पैसे कैसे बचा सकते हैं

पावर टेरिफ की बढ़ती कीमतें:

पिछले 5 सालों में बिजली की कीमतें 30 -50 % तक बढ़ चुकी हैं और यह अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले सालों में यह कीमतें और तेज़ी से ही बढ़ेंगी| ऐसे में सोलर पैनल का इस्तेमाल करके आप बिजली का बिल कम कर सकते हैं

सोलर ऊर्जा की स्थिर और कम कीमतें

पिछले कुछ सालों में सोलर पैनल की कीमतों में भारी गिरावट देखने को मिली है जिसके परिणामस्वरूप सोलर पैनल का चुनाव करने से आपके बजट पर कम प्रभाव पड़ेगा और लम्बे समय में भी आपके लिए फायदेमंद होगा

सरकार की मदद और जागरूकता: केंद्र सरकार और राज्य सरकारें चुनिंदा शहरों में नेट मीटरिंग की मदद से सोलर ऊर्जा को प्रसारित कर रही हैं जिसके कारण आम जनता में सोलर ऊर्जा के प्रति जागरूकता फैल रही है और वे सोलर ऊर्जा अपनाने के लिए अग्रसर हो रहे हैं|