अपने नए घर में सोलर पैनल लगवाने से पहले क्या करें

solar-panel.jpg

नया घर बनाना हर किसी के लिए बहुत ही रोमांचक और चुनौती भरा अनुभव होता है क्योंकि नए घर के लिए आपको बहुत सारी चीजों के बारे में पता करना होता है और हर मुमकिन कोशिश करनी होती है कि आपके घर में किसी चीज की कमी न हो। घर के लिए बेहतरीन इलाक़ा, अच्छी ज़मीन, अच्छा बिल्डर, घर का रंग और अन्य सभी ज़रूरी चीजों के बारे में पता करना होता है। इन सबके अलावा अगर आप पारंपरिक ऊर्जा स्रोतों के बजाए सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो आपको अपने घर में सोलर उपकरणों के लिए भी ज़रूरी फिटिंग करवानी होगी। अगर आप अपने घर में सोलर पैनल इंस्टॉल  करवाना चाहते हैं तो आपको इसके लिए अभी से ही प्लान करना शुरू कर देना चाहिए। घरेलू ज़रूरतों के लिए सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने से बिजली का बिल तो कम आता ही है, साथ ही आप पर्यावरण संरक्षण में भी बेहतरीन योगदान दे सकते हैं। पारंपरिक ऊर्जा स्रोत जैसे कोयला, जीवाश्म, पेट्रोल और डीजल आदि  से बिजली उत्पन्न करने पर हानिकारक ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन होता है जो मानव जाति एवं अन्य सभी जीव जंतुओं के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव डालती हैं। पर्यावरण संरक्षण एवं बिजली बिल में कटौती के लिए यही सुझाव दिया जाता है कि आपको अपनी विद्युत सम्बंधी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए सौर ऊर्जा से उत्पन्न बिजली का इस्तेमाल करना चाहिए।
इस लेख में आप पढ़ेंगे कि कैसे आप अपने घर को सौर पैनल के लिए उपयुक्त बना सकते हैं।

  1. सौर क्षमता की जाँच करना
    किसी भी जगह पर सौर पैनल लगवाने के लिए सबसे पहले यह पता करना होता है कि जहाँ आप सौर पैनल लगवाना चाहते हैं उस जगह की सौर क्षमता कैसी है। इसका अर्थ है कि वहाँ पर्याप्त मात्रा में सूरज की रोशनी आती है या नहीं क्योंकि सौर पैनल की बेहतरीन दक्षता के लिए सौर पैनल पर पर्याप्त मात्रा में सूर्य की किरणें आनी चाहिए। अपने नए घर को सौर पैनल के लिए उपयुक्त बनाने से पहले आपको यह ज़रूर देखना चाहिए कि आपके घर का स्थान और दिशा ऐसी होनी चाहिए कि घर की छत पर पर्याप्त मात्रा में सूरज की किरणें आएँ। इसके अलावा आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि छत पर पर्याप्त जगह उपलब्ध हो जहाँ आप आसानी से सोलर पैनल जैसा बड़ा उपकरण लगवा सकें।
  2. अपनी ज़रूरत के हिसाब से पैनल चुनें
    सोलर पैनल की दुनिया में विभिन्न स्तर का तकनीकी विकास हो चुका है तथा लोग ज़रूरत के अनुसार इन विकल्पों में से अपने लिए उचित उपकरण चुन सकते हैं। सोलर पैनल फोटोवोल्टाइक एवं थर्मल प्रभाव वाले होते हैं जहाँ फोटोवोल्टाइक में सोलर सेल की मदद से सूरज की किरणों को विद्युत में परिवर्तित किया जाता है। थर्मल सोलर पैनल में विद्युत उत्पादन के लिए सूरज की किरणों का इस्तेमाल कर पानी गर्म किया जाता है एवं बिजली बनाई जाती है। भारत जैसे देश में फोटोवोल्टाइक सौर पैनल ही बेहतर विकल्प हैं क्योंकि यहाँ पूरे साल पर्याप्त मात्रा में सूरज की किरणें मिलती हैं। इसके अलावा सोलर पैनल को ऑफ़ ग्रिड एवं ऑन ग्रिड की श्रेणी में भी बांटा गया है। ऑन ग्रिड सोलर पैनल में नेट मीटरिंग की भी सुविधा होती है। वहीं ऑफ ग्रिड सोलर पैनल उन जगहों के लिए उपयुक्त होते हैं जहाँ पावर कट की समस्या आम होती है और लंबे समय के लिए पावर कट होता है। इस तरह के पैनल में सौर ऊर्जा से उत्पन्न बिजली संग्रहित हो जाती है और आप अपनी ज़रूरत के हिसाब से इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।
  3. विद्युत संबंधी ज़रूरतों का पता लगाएँ
    अपने घर में किसी भी प्रकार का सोलर पैनल लगवाने से पहले आपको यह पता करना होगा कि औसतन आपके परिवार को कितने यूनिट बिजली की आवश्यकता है और उस हिसाब से ही आप सोलर पैनल का आकार और क्षमता चुन सकते हैं। सोलर पैनल लगवाना एक निवेश जैसा ही है जिसके लिए आपको सोच समझकर उचित फ़ैसला लेना चाहिए। यही नहीं, बेहतर दक्षता वाले उपकरणों का इस्तेमाल करके विद्युत संबंधी अपने ख़र्चों को भी कम सकते हैं तथा ऊर्जा संरक्षण में भी बेहतरीन योगदान दे सकते हैं। आपको सामान्य बल्ब की जगह एलईडी बल्ब का इस्तेमाल करना चाहिए क्योंकि इसमें बिजली की खपत कम होती है। इसके अलावा और भी ऐसे उपकरण उपलब्ध हैं जिनके इस्तेमाल से आप अपने घर में बिजली की खपत को कम सकते हैं और आपकी विद्युत संबंधी ज़रूरतों पर असर भी नहीं पड़ेगा।

ऊपर बताए गए सुझावों के अलावा सोलर पैनल इंस्टॉल करवाने के लिए आपको भरोसेमंद इंस्टॉलर से ही संपर्क करना चाहिए। जीनस इनोवेशन हर क़दम पर आपकी ज़रूरतों को समझता है और आपको बेहतरीन सुविधाएँ प्रदान करता है। जाँच, पेपरवर्क से लेकर सोलर पैनल के इंस्टॉलेशन तक हमारे विशेषज्ञों की टीम आपको बेहतरीन सुझाव देती है तथा सौर शक्ति के इस सफ़र में आपके साथ रहती है। यही नहीं, हम यह सुनिश्चित करते हैं कि हम आपको सर्वश्रेष्ठ सोलर उत्पाद प्रदान करें।

Related Post

सौर ऊर्जा के बारे में रोचक तथ्य – Click here
सौर ऊर्जा के बारे में जानें ज़रूरी बातें – Click here