सौर ऊर्जा के क्षेत्र में हुए ज़रूरी आविष्कार

-ऊर्जा.jpg

दुनियाभर में तकनीक बहुत तेज़ी से विकसित हो रही है और हम देख सकते हैं कि आज से महज़ 10 साल पहले तक दुनिया ऐसी नहीं थी और आने वाले दशक में भी दुनिया में ऐसे ही तकनीकी बदलाव देखने को मिलेंगे जो दुनिया को नया रूप देंगे। तकनीक में बदलाव के साथ साथ दुनियाभर में सरकारें विभिन्न क्षेत्रों में बढ़ चढ़ कर तकनीकी बदलाव की दिशा में काम कर रही हैं। नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों का प्रभावात्मक उपयोग करना आज कल हर देश का लक्ष्य बन चुका है तथा इस क्षेत्र में विकसित विज्ञान और तकनीक की मदद से नए आविष्कार हो रहे हैं।

जैसा कि हम जानते हैं सूरज से प्राप्त होने वाली ऊर्जा को सौर ऊर्जा कहा जाता है और विकसित तथा विकासशील देशों में सौर ऊर्जा से विद्युत उत्पन्न करना बहुत तेज़ी से बढ़ चुका है। यही नहीं दुनियाभर में बहुत सारे ऐसे आविष्कार हुए हैं जिससे सौर ऊर्जा की मदद से चलने वाले उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है तथा पर्यावरण को सुरक्षित भी रखा जा सकता है। माना जा रहा है कि आने वाले समय में भी सौर ऊर्जा के क्षेत्र में नए नए आविष्कार होंगे क्योंकि सौर ऊर्जा पर चलने वाले उपकरण न केवल पर्यावरण के लिए फ़ायदेमंद हैं बल्कि हमारे पैसे बचाने में भी मदद मिलती है। सौर ऊर्जा पर चलने वाले उपकरणों की शुरूआती क़ीमत थोड़ी ज़्यादा ज़रूर होती है लेकिन यह उपकरण लंबे समय तक चलते हैं तथा इसमें कम ख़र्च होता है। आइए यहाँ जानते हैं कि सौर ऊर्जा के क्षेत्र में कौन से आविष्कार हुए हैं जो दुनिया में ज़रूरी बदलाव ला सकते हैं।

  1. सोलर वाटर प्यूरीफायर
    सौर ऊर्जा का बेहतरीन इस्तेमाल करने के लिए यह उपकरण बहुत फ़ायदेमंद है। सूर्याजेन रिन्युएबल द्वारा बनाया गया यह वाटर प्यूरिफायर समुद्र, नदी, तालाब, कुआँ और बारिश के पानी तक को प्यूरीफाई करने की क्षमता रखता है। यह किफ़ायती उपकरण उन इलाक़ों के लिए बहुत फ़ायदेमंद है जहाँ पानी के नाम पर सिर्फ़ प्रदूषित पानी ही उपलब्ध होता है। इस उपकरण में सौर ऊर्जा की मदद से प्रदूषित पानी का वाष्पीकरण हो जाता है और भाप को शुद्ध पानी के रूप में इकट्ठा किया जाता है। इसमें 3 लीटर प्रदूषित पानी से 1.5 लीटर शुद्ध पानी मिल रोज़ मिल सकता है।
  2. सोलर पावर ट्री
    सेंट्रल मेकैनिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट द्वारा बनाये गए इस सोलर पावर ट्री से 5 घरों की विद्युत संबंधी ज़रूरतों को पूरा किया जा सकता है तथा इसके लिए बहुत कम जगह की ज़रूरत पड़ती है। स्टील की शाखाओं पर फोटोवोल्टाइक पैनल लगाए गए हैं जिससे सूरज की किरणों को विद्युत में परिवर्तित किया जा सकता है। सोलर ऊर्जा वाले यह वृक्ष ज़मीन में लगे सोलर प्लांट की तुलना में 10 से 15 प्रतिशत ज़्यादा बिजली उत्पन्न करते हैं। इस वृक्ष की मदद से बैटरी बैकअप सिस्टम भी चार्ज हो सकता है जिससे रात के समय में 2 घंटे तक बिजली मिल सकती है। सोलर वृक्ष में स्वतः सफ़ाई के लिए पानी के छोटे छोटे पाइप भी लगे हैं जिससे धूल मिट्टी को साफ किया जा सके। इस तरह के उपकरण गाँवों और छोटे शहरों के लिए बहुत ज़रूरी हैं क्योंकि वहाँ बिजली कटौती की समस्या आम होती है।
  3. सोलर एयर कंडीशनर
    सोलर ऊर्जा के क्षेत्र में यह उत्पाद बेहद फ़ायदेमंद है क्योंकि ज़्यादातर घरों या ऑफिसों में एसी लगे होते हैं तथा ज़्यादा बिजली खपत करने के कारण एसी का बिल भी बहुत ज़्यादा आता है और यही नहीं एसी से पर्यावरण को भी बहुत क्षति होती है। ऐसे में इस सोलर एसी की मदद से आप न केवल पर्यावरण की सुरक्षा करेंगे बल्कि बिजली बिल कम करने में भी बेहद कारगर है। अगर आप साधारण एसी का प्रयोग न कर सोलर एयर कंडीशनर इस्तेमाल करेंगे तो आपका बिजली बिल 20-30 प्रतिशत तक कम हो सकता है।
  4. एसओएल लैपटॉप
    पूरी तरह से सोलर ऊर्जा पर चलने वाले यह लैपटॉप मात्र 2 घंटे में चार्ज हो जाते हैं और लगभग 8-10 घंटे तक चलते हैं। विद्यार्थियों और काम के सिलसिले में सफर करने वाले लोगों के लिए बने इस ख़ास लैपटॉप के पीछे की ओर सोलर पैनल लगे हैं।
  5. सोलर आउटलेट
    सौर ऊर्जा पर चलने वाले इस उपकरण को विंडो सॉकेट भी कहा जाता है तथा आप इसे अपने घर या ऑफिस की खिड़की पर भी लगा सकते हैं। सौर ऊर्जा पर चलने वाले इन उपकरणों से आप विभिन्न इलेक्ट्रिक डिवाइस को चार्ज कर सकते हैं।

ऊपर बताए गए उपकरणों के अलावा और भी बहुत सारे ऐसे आविष्कार हैं जिनसे दुनिया में ज़रूरी बदलाव आ सकते हैं। तकनीकी विकास के कारण सौर ऊर्जा पर चलने वाले वाहनों का भी आविष्कार हो चुका है जिससे पेट्रोल एवं डीज़ल पर निर्भरता खत्म होगी तथा पर्यावरण संरक्षण में भी मदद मिलेगी। इसके साथ ही सोलर पेंट, सोलर गमले, सोलर सड़कें, सोलर स्टेडियम, सोलर कैमरा आदि विभिन्न आविष्कारों में शामिल हैं जो दुनियाभर में प्रचलित हो रहे हैं तथा इनके इस्तेमाल से पर्यावरण को प्रदूषण से बचाया जा सकता है। तकनीक में रोज़ नए बदलाव होने के साथ साथ सोलर ऊर्जा के क्षेत्र में ढेर सारे नए उपकरणों का भी आविष्कार हो रहा है। पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन की गंभीर समस्या को देखकर अब यह आवश्यक है कि ज़्यादा से ज़्यादा सौर ऊर्जा पर चलने वाले उपकरणों का ही इस्तेमाल करना चाहिए।

Related Post:

सौर ऊर्जा के बारे में रोचक तथ्य – Click here
सौर ऊर्जा के बारे में जानें ज़रूरी बातें – Click here
भारत में सौर ऊर्जा का भविष्य – Click here