इन आसान तरीक़ों से घर पर करें इंवर्टर सही

-पर-करें-इंवर्टर-सही.jpg

गर्मियाँ आते ही इंवर्टर की मांग और ज़रूरत बहुत तेज़ी से बढ़ जाती है। इंवर्टर घरों और ऑफिसों के लिए बहुत ज़रूरी उपकरण है जो पावरकट के दौरान भी हमें एक पूरी सुविधा से जिंदगी जीने का मौका देता है। पावरकट के पावर बैकअप देकर इंवर्टर हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी के ज़रूरी कामों को रुकने नहीं देता और पूरे आराम के साथ काम करने की सुविधा देता है। भारत में पावरकट की समस्या बहुत आम है खासतौर से ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में। बिजली से चलने वाले उपकरणों पर हमारी निर्भरता इतनी ज़्यादा हो चुकी है कि बिजली के बगैर जीवन की कल्पना करना भी असंभव है। और ऐसे में अक्सर होने वाले पावरकट से परेशानी बढ़ सकती है खासतौर से गर्मी के महीनों में। लेकिन इंवर्टर जैसा उपकरण बहुत साथ निभाता है और ज़रूरी कामों और उपकरणों के लिए पावरकट के दौरान बिजली देता है। गाँव, शहर या मेट्रो शहर हो, हर जगह इंवर्टर का प्रचलन बहुत तेज़ी से बढ़ा है और अधिकतर घरों में इंवर्टर एक बेहद ज़रूरी उपकरण बन चुका है। जीनस इंडिया पर भी आपको मिलेगी इंवर्टर की शानदार रेंज, जो केवल भारत में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी प्रचलित है।

चूंकि इंवर्टर भी बिजली से चार्ज होकर चलने वाली एक मशीन ही है तो यह सामान्य सी बात है कि इंवर्टर में भी कभी कभार खराबी आ सकती है। अब अगर गर्मी के इन महीनों में दुर्भाग्यवश आपका इंवर्टर खराब हो जाए तो ऐसे में आपका मूड खराब होना भी लाज़मी है। हालांकि इंवर्टर में गंभीर समस्याएँ भी हो सकती हैं जिसके लिए आपको अपना इंवर्टर सर्विस सेंटर पर लेकर जाना पड़ सकता है लेकिन हर बार गंभीर खराबी हो ऐसा भी ज़रूरी नहीं है। कुछ छोटी-छोटी समस्याएँ ऐसी भी होती हैं जिन्हें आप ख़ुद भी घर पर ही सही कर सकते हैं। इस लेख में हम आपको यही बताएँगे कि इंवर्टर में आने वाली आम समस्याएँ क्या हैं और आप इन्हें घर पर ही कैसे सही कर सकते हैं।

इन तरीक़ों से घर पर करें इंवर्टर सही:

 

1.इंवर्टर स्विच ऑन करने पर ऑन न हो

यह समस्या बहुत आम है और इसके कई कारण हो सकते हैं

  • जैसे इंवर्टर ओवरलोड होना
  • बैटरी इंवर्टर से न जुड़ी हो
  • बैटरी कमजोर हो
  • बैटरी के टर्मिनल ढीले हो गए हों
  • बैटरी के टर्मिनल उल्टे लगे हों
  • इंवर्टर का स्विच खराब बोर्ड में लगा हो

इन सभी समस्याओं को विभिन्न तरीकों से सही किया जा सकता है जैसे इंवर्टर ओवरलोड हो रहा हो तो ज़्यादा पावर वाले उपकरण न चलाएं। ज़रूरत पड़ने पर बैटरी बदलवा लें। अगर इंवर्टर की बैटरी कमजोर है तो उसे कुछ देर तक चार्ज करें उसके  बाद चलाकर देखें। अगर इंवर्टर की बैटरी में दिक़्क़त है तो उसपर लगी जंग साफ करें और पानी का स्तर भी चेक करें। ज़रूरत पड़ने पर पानी डालें। एक बार इंवर्टर को रीस्टार्ट भी करें। अगर इन सबके बावजूद आपका इंवर्टर चालू नहीं होता है कृपया अपने सर्विस प्रोवाइडर से बात करें और ज़रूरी सहायता लें।

2. इंवर्टर से लगातार अलार्म की आवाज़ आना

कभी कभार ऐसा हो सकता है कि आपके इंवर्टर से लगातार अलार्म या बीप की आवाज़ आती रहे। इसका कारण इंवर्टर पर ज़रूरत से ज़्यादा लोड हो सकता है या फिर कूलिंग फ़ैन में कोई खराबी हो सकती है। ओवरलोड के मामले में गैर ज़रूरी उपकरण न चलाएं और लोड कम करें। सभी इंवर्टर में कूलिंग फ़ैन लगे होते हैं जो इंवर्टर के साथ ही चलते हैं। इन पंखों की मदद से इंवर्टर का तापमान संतुलित रहता है और अगर यह पंखा खराब हो जाए तो इंवर्टर का तापमान बढ़ जाता है। ऐसे में या तो गर्मी के कारण इंवर्टर अपने आप बंद हो जाता है या अलार्म से लगातार संकेत आता है कि इंवर्टर बंद कर देना चाहिए और इंवर्टर की पूरी सफाई करनी चाहिए।

Also Read: गर्मियों में प्योर साइनवेव इन्वर्टर के फ़ायदे

3. एलसीडी स्क्रीन पर गलत नंबर

इंवर्टर की एलसीडी स्क्रीन पर सामान्यतः वोल्टेज इनपुट और रीडिंग आउटपुट लिखा होता है और खराब होने पर इसमे गलत नंबर दिखते हैं। इसका कारण बाहरी भी हो सकता है और आंतरिक भी। इंवर्टर के अंदर की समस्या सर्किट से जुड़ी हो सकती है जिसे सही करने के लिए आपको अपने सर्विस प्रोवाइडर से बात करनी होगी और विशेषज्ञों की मदद लेनी होगी। अगर यह कोई बाहरी समस्या है तो आप इसके लिए नीचे दिये गए सुझाव अपना सकते हैं:

बैटरी की केबल चेक करें कि  वे सही से जुड़े हैं या नहीं, इनपुट और आउटपुट केबल देखें, इसके टर्मिनल और लोड भी देखें।

4. कम बैकअप क्षमता

कभी कभार यह भी हो सकता है कि पावरकट के दौरान आपका इंवर्टर आपको सही बैकअप न दे और जल्दी ही डिस्चार्ज होकर बंद हो सकता है। अगर बैटरी को पूरी तरह से चार्ज होने का समय न मिले और अक्सर पावर कट होता रहे तो यह बैकअप भी कम ही मिलेगा और लंबे पावरकट के दौरान कुछ ही घंटों में इंवर्टर बंद हो सकता है। ऐसे में आपको इंवर्टर से लोड कम करना चाहिए, बैटरी को सही ढंग से चार्ज करना चाहिए, बैटरी में इलेक्ट्रोलाइट का स्तर सही रखने के लिए उसमे नियमित रूप से डिस्टिल्ड पानी डालें। याद रखें कि पानी का स्तर हमेशा अधिकतम और न्यूनतम के बीच होना चाहिए।

5. इंवर्टर से आवाज़ आना

अक्सर लोगों की यह शिकायत भी होती है कि उनके इंवर्टर से कुछ आवाज़ आ रही है जो उन्हें बेहद परेशान करती है। लेकिन ध्यान दें कि हर इंवर्टर से थोड़ी बहुत हवा जैसी आवाज़ आती ही है और यह बहुत सामान्य बात है। हालांकि अगर यह आवाज़ इंवर्टर के पंखे से आ रही है तो आपके उस पंखे को तुरंत साफ करना चाहिए। अगर साफ करने के बाद भी यह समस्या जारी  रहती है तो आपको इसकी जगह दूसरे पंखे लगवाने पड़ सकते हैं।ऐसे में अपने सर्विस प्रोवाइडर से बात करें और ज़रूरी सहायता लें।

ऊपर बताई गयी इंवर्टर से जुड़ी कुछ समस्याएँ बेहद आम हैं और बताए गए सुझावों से आप इन्हें घर पर भी ठीक कर सकते हैं। लेकिन ध्यान दें अगर बताए गए सुझावों से भी इंवर्टर सही नहीं होता है तो आपको तुरंत विशेषज्ञों की मदद लेनी चाहिए। हम जानते हैं कि इंवर्टर आपकी आप ज़िंदगी को बेहद खास बनाने का बेहतरीन ज़रिया है तो आज ही जीनस इंडिया से एक बेहतरीन इंवर्टर खरीदें और लंबे पावरकट के दिनों में भी बिना रुके जिएँ ज़िंदगी।